[वीडियो] कलाम-ए-ख़ुसरो: आमादा बा क़त्ल-ए-मन

हज़रत अमीर ख़ुसरो का मशहूर फ़ारसी कलाम जो उन्होंने अपने महबूबे हक़ीक़ी की शान में लिखा है.

आवाज़ और संगीत: मौलवी हैदर हसन क़व्वाल और पार्टी


आमादा बा क़त्ल-ए-मन आँ शोख़ सितमगारे

ईं तुर्फ़ा तमाशा बीं ना करदा गुनाहगारे !

वो शोख़ सितमगर मेरे क़त्ल को एकदम तैयार बैठा है

यह अजीब तमाशा है क्यूँकी मैं गुनाहगार नहीं हूँ [सब कुछ तो उसी ने किया है]  !

ख़्वाही कि शिफ़ा बाशुद, बीमार-ए-मुहब्बत रा

यक जुरा’ ख़ुदारा दे, अज़ शरबत-ए-दीदारे

[मेरे क़ातिल !] अगर चाहता है कि [मुझ] मुहब्बत के बीमार को शिफ़ा मिले

तो फिर ख़ुदा के वास्ते मुझे अपने दीदार का शरबत दे !

ऐ ईसा-ए-बीमाराँ दर हिज्र-ए-तू रंजूरम

शायद न ख़बरदारी अज़ हालत-ए-बीमारे

ऐ बीमारों के मसीहा ! मैं तेरे हिज्र (वियोग) में दुखी हूँ 

शायद तू नहीं जानता कि इस बीमार की क्या हालत हो गयी  है.

गर नामो निशाने मन पुरसंद, बिगो क़ासिद

आवारा-ओ-मजनूने, रुसवा सरे बाज़ारे

अगर मेरा नामो निशाँ पूछें तो, ऐ क़ासिद (postman) !उनसे कहना 

एक आवारा और पागल है जो सरे बाज़ार [आपके इश्क़ में] रुसवा है.

दर लज़्ज़ते दीदारश ख़ुसरो चे तवाँ गुफ़्तन

सर दादम ओ जाँ दादम ना दीदा रुख़-ए-यारे

उसके दीदार की लज़्ज़त [अब] ख़ुसरो क्या बताए 

सर दिया, और जान दी लेकिन महबूब का चेहरा न देखा !! 


Video Credits: The Dream Journey, Pakistan 

 

Awaam India

Awaam India

Awaam India is online platform founded by researchers and senior students of Aligarh Muslim University, Aligarh. Awaam stands for dissemination and promotion of progressive and constructive ideas in the society.