[वीडियो] कलाम-ए-ख़ुसरो: आमादा बा क़त्ल-ए-मन

हज़रत अमीर ख़ुसरो का मशहूर फ़ारसी कलाम जो उन्होंने अपने महबूबे हक़ीक़ी की शान में लिखा है. आवाज़ और संगीत: मौलवी हैदर हसन क़व्वाल

Read more

[सुनिए] अमीर ख़ुसरो: ईदगाह-ए-मा ग़रीबाँ कूए तो | عیدگاه ما غریبا‌ن کوی تو

हज़रत अमीर ख़ुसरो ने यह कलाम अपने मुर्शिद (Spiritual Master) हज़रत निज़ामुद्दीन औलिया की शान में लिखा है. ईद के मौक़े पर अवाम इण्डिया

Read more

ये मातम-ए-वक़्त की घड़ी है | फ़ैज़ अहमद फ़ैज़

ठहर गई आसमाँ की नदिया वो जा लगी है उफ़क़ किनारे उदास रंगों की चाँद नय्या उतर गए साहिल-ए-ज़मीं पर सभी खवय्या तमाम तारे

Read more

[कविता] [वीडियो] समर शेष है…. (रामधारी सिंह दिनकर)

ढीली करो धनुष की डोरी, तरकस का कस खोलो किसने कहा, युद्ध की बेला गई, शान्ति से बोलो? किसने कहा, और मत बेधो हृदय

Read more
Page 1 of 212