ग़ुस्लख़ाना | सआदत हसन मन्टो (Bathroom | Sadat Hasan Manto)

सदर दरवाज़े के अंदर दाख़िल होते ही सीढ़ियों के पास एक छोटी सी कोठरी है जिस में कभी उपले और लकड़ियां-कोयले रखे जाते थे।

Read more

दिवाली, नज़ीर अकबराबादी और हमारे समाज की तस्वीरें

नज़ीर अकबराबादी का नाम ज़हन में आते ही भारतीय समाज की कई तस्वीरें सामने आ जाती हैं. आदमीनामा, बन्जारानामा, होली और झोंपड़ा जैसी नज़्मे

Read more

“सय्यद की लौह-ए-तुर्बत” और अल्लामा इक़बाल के शब्दों में सर सय्यद का पैग़ाम

मुहम्मद नवेद अशरफ़ी  ऐ के तेरा मुर्ग़-ए-जाँ तार-ए-नफ़स में है असीर ऐ के तेरी रूह का ताइर क़फ़स में है असीर इस चमन के

Read more
Page 5 of 7« First...34567