नव-देशभक्तों के नाम एक जेएनयू वाले का खुला ख़त | समर अनार्य

[उतने भी प्यारे नहीं] देशभक्तों, कई दिन से आपका पराक्रम, जेएनयू पर आपकी उबल उबल पड़ रही देशभक्ति देखकर अभिभूत हूँ. मुझे अच्छा लगता

Read more

यह आत्महत्या दरअसल ‘हत्या’ है? -समर अनार्य

“मैं लिखना चाहता था, हमेशा से, विज्ञान के बारे में, कार्ल सागां की तरह. और आखिर में बस यह एक ख़त (आत्महत्या का) है

Read more
Page 8 of 9« First...56789